पैग़म्बरे इस्लाम का जीवन, एकता व समरसता का केन्द्र



 दया व कृपा के प्रतीक, अंतिम ईश्वरीय दूत पैग़म्बरे इस्लाम हज़रत मोहम्मद मुसतफ़ा सल्लल्लाहो अलैहे व आलेही व सल्लम के शुभ जन्म दिवस का अवसर है। आमुल फ़ील में 17 रबीउल औवल को संसार उस महान इंसान की ज्योति से जगमगा उठा कि जिसे जन्म के चालीस वर्ष बाद ईश्वर की ओर से यह दायित्व सौंपा गया कि शिष्टाचार को उसके चरम बिंदु पर पहुंचाए और इंसान को कल्याण व मोक्ष का मार्ग दिखाए। इस महान हस्ती ने अज्ञानता, अत्याचार, अन्याय और हिंसा से भरे हुए युग में विश्ववासियों को भाईचारे से सुसज्जित जीवन का ढंग सिखाया। उन्होंने दुनिया को संदेश दिया  हे लोगो, अज्ञानता और अनेकेश्वरवाद में ग्रस्त इंसानो, कहो कि अल्लाह के अलावा कोई पूज्य नहीं है ताकि मोक्ष पा जाओ।

पैग़म्बरे इस्लाम ने इस ज्योतिमय संदेश की छाया में दुनिया के इंसानों के सामने सबसे संपूर्ण और सर्वश्रेष्ठ धर्म पेश किया तथा अपने मिशन का मूल्यवान उपहार अर्थात इस्लाम प्रदान किया। जिन लोगों ने इस्लाम को स्वीकार किया और ईश्वर के अनन्य होने और पैग़म्बरे इस्लाम की पैग़म्बरी की गवाही दी उन्हें मुसलमान होने का गौरव प्राप्त हो गया। पैग़म्बरे इस्लाम के महान अस्तित्व की बरकत से, युद्ध और मारकाट की आग ठंडी पड़ गई और इस्लाम की जीवनदायक शिक्षाओं की छत्रछाया में लोगों में सहानुभूति और प्यार की भावना जागी। विशेष शिष्टाचार के कारण क़ुरआने मजीद में पैग़म्बरे इस्लाम की प्रशंसा की गई है और इस बात को सराहा गया है कि उनकी दया और करुणा से लोगों के दिलों को झुकाया। पैग़म्बरे इस्लाम ने इस्लाम की छाया में कठोर स्वभाव के लोगों को भी दयावान बना दिया और उन्हें अति प्रभावी और महान इंसानों में बदल दिया। किंतु आज एक समूह जो विचलित और दिगभ्रमित हो गया है और अज्ञानता के कारण जिसकी बुद्धि पर ताले पड़े हुए हैं ईश्वर और पैग़म्बरे इस्लाम के नाम पर मुसलमानों के ही विरुद्ध अति भयानक अपराध अंजाम दे रहा है और इस पर गर्व भी करता है। क्य यह कहना सही नहीं है कि मुसलमानों का यह समूह पैग़म्बरे इस्लाम से पहले वाले अज्ञानता के काल ओर नहीं लौट गया है?

दया व करुणा के प्रतीक पैग़म्बर के शुभ जन्म दिवस पर हम ईश्वर से प्रार्थना करते हैं कि इस्लाम के सही मार्ग से भटके हुए लोगों के दिलों को पैग़म्बरे इस्लाम की जीवन शैली की ज्योति से प्रकाशमान करे तथा मुसलमानों के बीच एकता की भावना मज़बूत करे।

एकता व एकजुटता उन सिद्धांतों और नियमों का भाग है जिन पर पैग़म्बरे इस्लाम ने हमेशा बल दिया। पैग़म्बरे इस्लाम ने इसके लिए बड़े प्रयत्न भी किए। हज़रत अली अलैहिस्सलाम इस बारे में कहते हैं कि पैग़म्बरे इस्लाम ने सामाजिक खाइयों को एकता की भावना से भरा और दूरियों को समाप्त किया। आज इस्लामी जगत की एकता का अर्थ यह है कि सभी मुस्लिम समुदाय अपनी समानताओं जैसे ईश्वर, क़ुरआन, पैग़म्बरे इस्लाम, पैग़म्बरे इस्लाम की जीवन शैली आदि को आधार बनारक एक दूसरे के निकट आएं और इस्लाम जगत के सामने उत्पन्न होने वाले ख़तरों से निपटें। इसका अर्थ यह है कि हम सांप्रदायिक, राजनैतिक, नस्ली और भाषाई विवादों से स्वयं को दूर रखें।

एकता व समरसता का माहौल उत्पन्न करने के लिए पैग़म्बरे इस्लाम ने जो उपाय किए उनमें से एक उनका बर्ताव और सुलूक है। पैग़म्बरे इस्लाम का अच्छा बर्ताव और सहानुभूतिपूर्ण सुलूक हमेशा मतभेदों को दबाने और अच्छे इंसानों को अपनी ओर आकर्षित करने में प्रभावी रहा है। पैग़म्बरे इस्लाम के चमत्कारिक प्रेमपूर्ण बर्ताव के कारण बहुत से विरोधी भी उने श्रद्धालु बन गए। इस प्रकार पैग़म्बरे इस्लाम का शिष्टाचार एकता व प्रेम का ध्रुव बन गया।

 

पैग़म्बरे इस्लाम ने सामाजिक क्षमताओं की सूक्ष्मता से समीक्षा करके सबको एकेश्वरवाद की ओर ले जाने की भूमि समतल की। पैग़म्बरे इस्लाम जब मक्का नगर से पलायन करके मदीना नगर पहुंचे तो अनेक गुटों के बीच समझौते हुए । यह समझौते उस समय के इस्लामी समाज में एकता व एकजुटता उत्पन्न करने के प्रभावी उपाय समझे जा सकते हैं। एक मदीने की सार्वजनिक संधि थी जो मदीने के क़बीलों और समूहों से पैग़म्बरे इस्लाम ने की। एकजुटता व राष्ट्रीय एकता उत्पन्न करने का यह सर्वोच्च मार्ग था क्योंकि क़बीलों के बीच एकता राजनैतिक एकता की भूमिका थी।

पैग़म्बरे इस्लाम के साथ मक्के से पलायन करके मदीना जाने वालों को मुहाजिर अर्थात पलायनकर्ता कहा गया जबकि मदीना वासियों को अंसार कहा गया। दोनों समूहों के बीच होने वाला समझौता भी एकता व धार्मिक एकजुटता की दिशा में बहुत महत्वपूर्ण क़दम था। पैग़म्बरे इस्लाम ने दोनों के बीच भाईचारे का समझौता करवाया और इस समझौते के आधार पर अंसार अर्थात मदीनावासियों ने पलायन करके आने वाले मुहाजिरीन को अपनी संपत्ति में भागीदार बना लिया। इस समझौते के एक भाग में इस प्रकार कहा गया हैः मुसलमान एक दूसरे के मित्र और सहायक हैं तथा अत्याचार और अतिक्रमण का सामना होने की स्थिति में एकजुट रहेंगे। समझौते पर हस्ताक्षर करने वाले एक समुदाय के अंग होंगे। समझौते पर हस्ताक्षर करने वाले एक दूसरे के साथ अन्याय नहीं करेंगे। यदि मुसलमानों के बीच कोई मतभेद हो जाए तो ईश्वर और उसके पैग़म्बर द्वारा उस मतभेद का समाधान किया जाएगा।

भाईचारे का यह समझौता जातिवाद को नकारकर ईमान तथा एकेश्वरवाद की भावना के आधार पर किया गया। क़ुरआन के सुरए हुजोरात की आयत नंबर दस में ईश्वर ने ईमान लाने वालों को एक दूसरे का बंधु घोषित किया है। क़ुरआन कहता है कि ईमान लाने वाले एक दूसरे के भाई हैं तो अपने दो भाइयों में संधि कराओ। ईश्वरीय भय के मार्ग पर चलो ताकि शायद तु ईश्वरीय कृपा के पात्र बन जाओ। इस प्रकार पैग़म्बरे इस्लाम ने भाईचारे का माहौल बनाकर अनेक ख़तरों और समस्याओं का रास्ता बंद कर दिया।

 

पैग़म्बरे इस्लाम का इच्छित समाज वह है जिसके सभी सदस्य एकेश्वरवाद के आधार पर एक दूसरे से बंधुत्व रखें। इस आदर्श समाज में भाईचारे की भावना प्रवाहित होगी और इसके सारे सदस्य एक दूसरे से एसे मिलेंगे जिससे एकता को बल मिले। पैग़म्बरे इस्लाम का कथन है कि प्रेम, मित्रता और दया में ईमान वाले एक ही शरीर के अंगों की भांति हैं। जब कोई अंग किसी समस्या के कारण पीड़ा में होता है तो यह पीड़ा अन्य अंगों को भी अवश्य प्रभावित करती है। एकता का पाठ सिखाने वाला पैग़म्बरे इस्लाम का एक क़दम वह है जो उन्होंने मक्के पर विजय मिल जाने के बाद उठाया। उन्होंने मस्जिदुल हराम में भाषण देते हुए कहा कि मुसलमान, मुसलमान का भाई है वह उस पर अत्याचार नहीं कर सकता, उसे अपमानित नहीं कर सकता, और उसके साथ विश्वासघात नहीं कर सकता। मुसलमानों का कर्तव्य है कि एक दूसरे से संबंध के मामले में, आवश्यकता रखने वालों की सहायता के मामले में तथा एक दूसरे के प्रति प्रेमपूर्ण व्यवहार के मामले में संघर्ष करें।

 

पैग़म्बरे इस्लाम ने एकता व एकजुटता को प्रबल बनाने के लिए नस्लभेद और जातिवाद को नकारा। इस्लाम ने जातिवाद और नस्लभेद से संघर्ष किया और कहा दिया कि केवल तक़वा श्रेष्ठता का मापदंड और आधार है। नस्लभेद को समाप्त और एकता को मज़बूत करने के लिए पैग़म्बरे इस्लाम ने बेलाल हब्शी और सलमान फ़ारसी को सम्मान दिया ताकि जातिवाद और नस्लभेद का अंत हो तथा ईश्वरीय व धार्मिक मूल्यों के पालन को सामाजिक महत्व और स्थान का आधार माना जाए।

एक दिन सलमाने फ़ारसी मस्जिद में पैग़म्बरे इस्लाम के पास बैठे हुए थे। कुछ वरिष्ठ सहाबी अर्थात पैग़म्बरे इस्लाम के साथ रहने वाले भी वहां उपस्थित थे। जाति और वंश का बात छिड़ गई। हर कोई अपने वंश और जाति के बारे में कुछ बातें बता रहा था और अपनी जाति को बहुत बढ़ा चढ़ाकर पेश कर रहा था। जब सलमान की बात आई तो लोगों ने उनसे कहा कि तुम भी अपने वंश और जाति के बारे में बताओ। इस्लाम की शिक्षाओं की छाया में प्रशिक्षित होने वाले सलमान ने जाति और नस्ल का बखान करने के बजाए कहा कि मेरा नाम सलमान है और मैं ईश्वर के एक बंदे का बेटा हूं। मैं दिगभ्रमित था पैग़म्बरे इस्लाम के माध्यम से मुझे मार्गदर्शन मिला, मैं ग़रीब था ईश्वर ने पैग़म्बरे इस्लाम की सहायता से मुझे आवश्यकता मुक्त बनाया, मैं गुलाम था ईश्वर ने पैग़म्बरे इस्लाम के माध्यम से मुझे स्वतंत्र कराया, यही मेरी जाति और यही मेरा वंश है। इसी बीच पैग़म्बरे इस्लाम ने वहां मौजूद लोगों को जो क़ुरैश नामक क़बीले से संबंध रखते थे संबोधित करते हुए कहा कि हे क़ुरैश के लोगो ख़ून का क्य मतलब है? वंश का क्य अर्थ है? हर व्यक्ति के लिए गर्व का आधार उसका धर्म है और हर व्यक्ति का महत्व उसके शिष्टाचार, आदतों, व्यक्तित्व और अधिक परिश्रम से है।

 

जातीय और नसली भावनाओं की उपेक्षा पर पैग़म्बरे इस्लाम के आग्रह का मुसलमानों की एकता व एकजुटता पर बड़ा असर पड़ा। यही कारण था कि मुसलमानों में अरबों और ग़ैर अरबों सब ने एक दूसरे को अपना भाई माना तथा ग़ैर अरब मुसलमानों को भी वही महत्व प्राप्त हुआ जो अरबों को था।

 

निश्चित रूप से पैग़म्बरे इस्लाम की जीवन शैली एकता व एकजुटता का पाठ सीखने का सर्वोत्तम माध्यम है। यदि क़ुरआन को देखा जाए, पैग़म्बरे इस्लाम के जीवन और उनके परिजनों की जीवन शैली की समीक्षा की जाए तो हमें यही दिखाई देता है कि हर प्रकार के जातीय और नस्ली मतभेदों को मिटाया गया है, विभिन्न संप्रदायों के बुद्धिजीवियों के बीच समन्वय और सहयोग को बढ़ावा दिया गया है।